कपल्स के लिए होटल में ठहरने के नियम (Law For Couples Staying At Hotels)

0
100

एक तरफ हम बालिग कपल्स को साथ रहने का अधिकार मिलता है, अपने पार्टनर को बिना किसी भेदभाव के चुनने का अधिकार मिला है।

मगर होटल में साथ ठहरने को लेकर कई बार मामला पुलिस तक पहुंच जाता है, इसके बाद कोर्ट-कचहरी का चक्कर काटना पड़ता है।

भारतीय संविधान के अनुसार ऐसा कोई नियम-कानून नहीं है, जो किसी बालिग प्रेमी-प्रेमिका को होटल में कमरा लेने से रोके, मगर दोनों के पास वैध सरकारी पहचान पत्र (मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, पासपोर्ट इत्यादि) होना चाहिए।

इसलिए अगर आप बालिग हैं तो होटल में ठहरें, लेकिन इसके लिए अपने साथ कागजात लेकर जाएं।

होटल में ठहरने के लिए दोनों के पास पहचान पत्र होना जरूरी है, किसी एक के पहचान पत्र के आधार पर दो लोग नहीं रूक सकते हैं।

अगर आपका और आपकी पार्टनर का पहचान पत्र सूरत का है और आप दोनों सूरत में ही होटल में रूकना चाहते हैं, तो ये नहीं हो पाएगा, ऐसा करने से लोकल पुलिस पकड़ सकती है।

सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट का कहना है, कि अनमैरिड कपल को एक साथ होटल में रहने और आपसी सहमति से शारीरिक संबंध बनाने का मौलिक अधिकार है, हालांकि दोनों का बालिग होना जरूरी है, सु्प्रीम कोर्ट साफ कह चुका है, कि संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत मिले मौलिक अधिकार में अपनी मर्जी से किसी के साथ रहने का अधिकार भी आता है।

अनमैरिड कपल को होटल से गिरफ्तार नहीं कर सकती पुलिस

अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड के साथ किसी होटल में ठहरे हैं और पुलिस आपसे पूछताछ करने आती है, तो घबराने की जरूरत नहीं है. अनमैरिड कपल का होटल में एक साथ रहना कोई जुर्म नहीं है. लिहाजा पुलिस को होटल में ठहरे किसी अनमैरिड कपल को परेशान करने या गिरफ्तार करने का कोई अधिकार नहीं हैं।

अनमैरिड कपल को अपनी मर्जी से होटल में ठहरने का है अधिकार

इसका मतलब यह हुआ कि अगर कोई कपल बिना शादी के किसी होटल में एक साथ रहते हैं, तो यह उनका मौलिक अधिकार है, अगर होटल में ठहरने के दौरान अनमैरिड कपल को पुलिस परेशान करती है, या फिर गिरफ्तार करती है, तो यह उनके मौलिक अधिकारों का हनन माना जाएगा, पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ कपल संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत सीधे सुप्रीम कोर्ट या अनुच्छेद 226 के तहत सीधे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा सकता हैं।

अगर बालिग होने पर भी परेशान करती हे पोलिस तो आप सीनियर पुलिस अधिकारियों से भी शिकायत कर सकते हैं।

होटल में ठहरे अनमैरिड कपल को तंग करने वाले पुलिसकर्मी के खिलाफ जिले के पुलिस अधीक्षक या उससे ऊपर के पुलिस अधिकारी से भी शिकायत की जा सकती है, इसके अलावा पीड़ित कपल के पास मानवाधिकार आयोग में शिकायत करने का भी विकल्प रहता है।

पुलिस किसी अनमैरिड कपल को गिरफ्तार करने या तंग करने के लिए होटल में छापेमारी नहीं करती है, हिंदुस्तान में वेश्यावृत्ति अपराध माना जाता है. पुलिस ऐसी वेश्यावृत्ति के खिलाफ या फिर किसी अपराधी के छिपे होने की आशंका पर होटल में छापेमारी करती है।

अगर कोई अनमैरिड कपल होटल में ठहरा है और पुलिस छापेमारी के दौरान उनके पास आती है, तो ऐसे कपल को घबराने की कोई जरूरत नहीं है, पुलिस की मांग पर ऐसे कपल को अपना पहचान पत्र यानी आईडी कार्ड दिखाना होगा, ताकि यह साबित हो सके कि दोनों आपसी सहमति से होटल में ठहरे हुए हैं और किसी भी तरह की वेश्यावृत्ति में शामिल नहीं हैं।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here