EWS प्रमाण पत्र क्या होता है ?

0
95

भारत सरकार द्वारा देश के कमजोर और गरीब परिवारों के लिए एक योजनाएं लागू की हे जिनको EWS कहा जाता है।

इसी तरह EWS भी एक योजना है, जिसके माध्यम से आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को सुविधा प्रदान की जाएगी |

सरकार द्वारा शुरू की इस योजना के अंतर्गत आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के सभी लोगों को 10% आरक्षण प्रदान किया जाएगा|

EWS का फुल फॉर्म “Economically Weaker Sections” होता है | यह एक ऐसा शब्द होता है जो उन नागरिकों या परिवारों को इंगित करने के लिए प्रयोग में लाया जाता है जो की एक निश्चित दलहित स्तर के अंतर्गत आते हैं, उन्हें इस योजना में शामिल किया जाता है |

इडब्ल्यूएस (EWS) प्रमाण पत्र को सार्वजनिक नीति डोमेन में भारत के संविधान के प्रस्तावना के संदर्भ में सराहना की गई है, जो सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से न्याय दिलाने का काम करती है |

EWS की स्थिति को तय करने का काम किया जाता है, जिसके लिए राज्य और केंद्रीय सरकार अलग-अलग मानदंड निर्धारित करती हैं।

इस योजना को लागू करने का सरकार का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए प्रासंगिक और समकालीन रखना, जिसके लिए सरकार समय-समय पर आय सीमा के स्तर की समीक्षा करके उसे तय करती है।

EWS प्रमाण पत्र कैसे निकलता है?

EWS आरक्षण प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आपको सबसे पहले फॉर्म की सभी प्रविष्टियां पूरी तरह से भरनी होती है|

इसके बाद आपको पटवारी से जमीन संबंधी दस्तावेजो के आधार पर कृषि भूमि की अच्छे से छानबीन करानी होती हैं, ताकि आगे किसी समस्या का सामना न करना पड़े |

इसके आलावा आपको ग्राम सेवक से आवासीय मकान एवं आवासीय भूखंड की भी जांच करानी आवश्यक होती है |

इसके बाद आपको स्वयं का आय एवं संपत्ति के संबंध में शपथ पत्र देना होता है |

फिर आपकी फॉर्म प्रक्रिया संपन्न हो जाने के बाद आप ई- मित्र पर जाकर ऑनलाइन फॉर्म भर लें।

इसके बाद सभी वांछित दस्तावेजो की स्व-प्रमाणित प्रतियाँ अपलोड करवा लें |

EWS प्रमाण पत्र के लिए आवश्यक दस्तावेज।

अपनी अच्छे से पहचान देने के लिए आपको (आधार कार्ड/ राशन कार्ड/मतदाता परिचय पत्र/किरायानामा, गैस कनेक्शन/बिजली व पानी के बिल की प्रति) आदि दस्तावेज देने होते है।

इसके अतरिक्त स्वयं या पिता की जाति के साक्ष्य हेतु प्रमाण पत्र जैसे:- कृषि भूमि की जमाबंदी/मूल निवास प्रमाण पत्र/जन्म प्रमाण पत्र/ग्राम पंचायत या शहरी निकाय द्वारा भूखण्ड के पट्टे की प्रमाणित प्रति जिसमें जाति अंकित हो।

राजकीय कार्मिकों/राजकीय उपक्रम/प्राईवेट सेक्टर मे कार्यरत कार्मिको को वेतन से संबंधित फॉर्म नम्बर -16 या वार्षिक वेतन विवरण भी दस्तावेज के रूप में दे सकते है।

आपको आवेदन पत्र पर दस्तावेज के रूप में सत्यापित पासपोर्ट साइज फ़ोटो लगानी होती है।

दस्तावेज के रूप में आपको दो राज्य या केन्द्रीय अधिकारी/कर्मचारी के द्वारा जारी आय प्रमाण पत्र/ इनकम टैक्स रिटर्न की कॉपी (अगर हो), पैन कार्ड, बैंक पासबुक कॉपी जमा करनी होती है।

मुख्य रूप से ये दस्तावेज होने अनिवार्य होंगे।

• आधार कार्ड/पैन कार्ड

• आय प्रमाण पत्र

• BPL राशन कार्ड

• बैंक स्टेटमेंट

• स्व-घोषणा पत्र

EWS प्रमाण पत्र के लिए कौन आवेदन कर सकता है ?

इस योजना में जिस परिवार की समस्त स्रोतो की कुल आय 8 लाख रूपये से कम है।

इस योजना में शामिल होने वाले परिवार के पास 5 एकड़ ( अर्थात 12बीघा 10 बिस्वा, जिसमे 1 बीघा = 132 फुट×132 फुट है।) से कम कृषि भूमि हो।

इसका लाभ उठाने वाले परिवार के पास 1000 वर्ग फुट से कम का रहवासीय फ्लैट/मकान हो।

इस योजना के अंतर्गत वही परिवार आ सकते हैं, जिनका शहरी निकाय क्षेत्र में 100 वर्ग गज (अर्थात 900 वर्ग फ़ीट ) क्षेत्रफल से कम का आवासीय प्लॉट बना हो।

लाभ उठाने वाले परिवार का ग्रामीण क्षेत्र में 200 वर्ग गज (अर्थात 1800 वर्ग फ़ीट) क्षेत्र से कम का आवासीय प्लॉट हो।

इस योजना में शामिल होने वाला परिवार भारत का मूल निवासी हो, और वह सामान्य वर्ग (SC/ST/OBC वर्ग की आरक्षित श्रेणी का नहीं हो) से संबंधित हो।

EWS के लिए आवेदन की प्रक्रिया

इस योजना में आवेदन करने के लिए सरकारी जनादेश के मुताबिक़, सभी विद्यालयों को ईडब्ल्यूएस (EWS) श्रेणी के लिए अपनी सीटों का 25% आरक्षित करना होता है।

इसके बाद अभ्यर्थियों का अंतिम चयन Digitized Lottery System के जरिये किया जाता है, लेकिन इसके लिए आपको सबसे पहले अपने आपको पंजीकृत करना होता है और पंजीकृत करने के लिए आपको आधिकारिक शिक्षा निदेशालय वेबसाइट के लिंक nic.in पर जाकर अपनी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया संपन्न करनी होती है |

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here