MLC क्या है, MLC का चुनाव कैसे होता है ?

0
92

MLC यानी की Member of Legislative Council को हिंदी में विधान परिषद के सदस्य कहते है।

विधान परिषद का गठन सविधान के अनुच्छेद 169, 171(1) और 171(2) के तहत किया गया है।

विधान परिषद किसी भी राज्य के विधानमंडल का अंग है, विधान परिषद के सदस्यों का चुनाव आम जनता के द्वारा नहीं होता है।

विधान परिषद राज्य सरकार के मुख्य अंग होते है, वर्तमान समय में भारत के केवल 6 राज्यों में ही विधान परिषद मौजूद है।

विधान परिषद के सदस्य को स्थानीय निकायों, राज्यपाल, स्नातक और शिक्षक, राज्य विधान सभा के द्वारा 6 साल के लिए चुना जाता है।

हालाँकि विधान परिषद के कुल सदस्यों में से एक तिहाई सदस्य हर दो साल में सेवानिवृत्त हो जाते हैं, उसके बाद फिर दोबारा से नए सदस्यों का चुनाव किया जाता है।

MLC का चुनाव कैसे होता है ?

दोस्तों राज्य सभा, विधान सभा और विधान परिषद राज्य सरकार का मुख्य अंग होता हैं।

अगर MLC की चुनाव प्रक्रिया की बात की जाए तो आपको बता दूँ, विधान परिषद के एक तिहाई सदस्य स्थानीय निकायों के सदस्य द्वारा यानि नगर पालिका और जिला बोर्ड के सदस्य के द्वारा चुने जाते हैं, वही विधान परिषद के एक तिहाई सदस्य राज्य विधानसभा के सदस्यों के द्वारा चुने जाते है।

MLC के 1/12 सदस्य राज्य के शिक्षक के द्वारा चुने जाते है व 1/12 सदस्य स्नातक पास पंजीकृत मतदाताओं के द्वारा चुने जाते है, इसके अलावा राजयपाल के द्वारा भी विधान परिषद के कुछ सदस्यों का चयन किया जाता है।

इन सब के द्वारा चुने गए सदस्यों को विधान परिषद का सदस्य बना दिया जाता है।

MLC में सदस्यों की संख्या कितनी होती है?

राज्य के विधान परिषद के सदस्यों की संख्या, राज्य के विधान सभा में मौजूद सदस्य का एक तिहाई होता है।

विधान परिषद के सदस्य की संख्या, विधान सभा के एक तिहाई सदस्य से अधिक नहीं होना चाहिए और एक समय में विधान परिषद में 40 से कम सदस्य नहीं हो सकते।

MLC बनने के लिए आयु और योग्यता

विधान परिषद का सदस्य बनने के लिए उम्मीदवार का भारत का नागरिक होना अनिवार्य है।

MLC बनने के लिए व्यक्ति की उम्र कम से कम 30 साल का होना चाहिए।

MLC बनने वाले उम्मीदवार का मानसिक रूप से ठीक होना जरुरी है और हर परिस्थिति में सही निर्णय करने वाला होना चाहिए।

इसके साथ ही उम्मीदवार का अपने गांव या शहर के मतदाता सूची में नाम होना अनिवार्य है।

MLC उम्मीदवार एक समय में विधान परिषद का सदस्य और सरकारी पद पर नहीं होना चाहिए।

भारत के कोन से राज्य में विधान परिषद मौजूद है ?

भारत के कुछ राज्यों में लोकतंत्र की ऊपरी प्रतिनिधि सभा को विधान परिषद भी कहा जाता है।

भारत के केवल छः राज्यों में ही विधान परिषद है जिनके नाम बिहार, उत्तरप्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना में विधान परिषद मौजूद हैं।

इसके अलावा राजस्थान, असम और ओडिशा को भारत के संसद ने अपने खुद का विधान परिषद बनने की मंजूरी दे दी हैं।

MLC का कार्य क्या है ?

विधान परिषद के सदस्य का कार्य राज्य सभा को सुझाव देने का होता है यानि की विधान परिषद सभी तरह के बिल को स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है, लेकिंन उस बिल को पास करने के अधिकार एमएलसी के पास नहीं होता, बिल का फैसला करने का अधिकार राज्यसभा के पास होता है।

इसके अलावा विधान परिषद के सदस्य को विधानसभा के सदस्य जितना ही अधिकार दिया जाता है जैसे गाड़ी, सुरक्षा आदि और सभी MLA की तरह क्षेत्र फंड का प्रयोग करने का अधिकार भी होता है।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here