(PMFBY) प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022।

0
117

कई बार किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल को काफी नुकसान होता है, जिसकी वजह से किसानों को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाली फसल के नुकसान की वजह से किसानों की आर्थिक स्थिति भी खराब हो जाती है।।

केंद्र सरकार द्वारा इस समस्या को दूर करने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का शुभारंभ किया गया है।, इस योजना के माध्यम से किसानों को किसी भी प्रकार की आपदा के कारण हुए फसल के नुकसान पर बीमा प्रदान किया जाता है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में केवल प्राकृतिक आपदा जैसे कि सूखा पड़ना, ओले पड़ना आदि ही शामिल है, यदि किसी और वजह से फसल का नुकसान होता है तो बिमे की राशि नहीं प्रदान की जाएगी।

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा 8800 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है।

इस योजना के अंतर्गत किसानों को खरीफ फसल का 2% और रवि फसल का 1.5% भुगतान बीमा कंपनी को करना होगा, जिस पर उन्हें बीमा प्रदान किया जाएगा।

मेरी पॉलिसी मेरा हाथ में राहत अभियान का शुभारंभ।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर जी के द्वारा एक राष्ट्रीय अभियान आरंभ किया गया है, इस अभियान का नाम मेरी पॉलिसी मेरा हाथ है।

इस अभियान का आरंभ इंदौर से 35 किलोमीटर दूर बुरी बलाई गांव में किया गया था, इस अभियान का मुख्य उद्देश्य प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की पहुंच देशभर के किसानों तक सुनिश्चित करना है।

इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 18 फरवरी 2016 को की गई थी, फसल बीमा योजना के तहत फसलों को सूखा, आंधी, तूफान, बे मौसम बारिश, बाढ़ आदि जैसे जोखिमों से सुरक्षा प्रदान करना है।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक आपदाओं से नुकसान की स्थिति में किसानों को किफायती दर पर बीमा प्रदान करना है, अब तक लगभग 36 करोड किसानों को इस योजना का लाभ प्रदान किया गया है।

मेरी पॉलिसी मेरे हाथ अभियान को 1 महीने तक संचालित किया जाएगा, जिसमें 2021-22 के अंतर्गत बीमित सभी किसानों को उनके घर जाकर फसल बीमा के दस्तावेज प्रदान किए जाएंगे।

इस अभियान के माध्यम से प्राकृतिक खेती, ड्रोन, ई सैंपल जैसी आधुनिक टेक्नोलॉजी से भी परिचित कराया जाएगा, इस अभियान का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि सभी किसानों तक सरकार की नीतियों, भूमि रिकॉर्ड दावे की प्रक्रिया और शिकायत निवारण के बारे में सभी जानकारी प्राप्त हो रही है या नहीं।

अब तक इस योजना के माध्यम से 107000 करोड़ से अधिक की राशि किसानों के खाते में वितरित की गई है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों की कवरेज।

सभी किसान इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र हैं।

जिसमें अधिसूचित क्षेत्रों में अधिसूचित फसलों को उगाने वाले बटाईदार एवं किश्तकार किसान भी शामिल हैं।

परंतु बीमित फसलों और भूमि के लिए किसानों का बीमा योग्य होना अनिवार्य है।

सभी किसानों को इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए अनिवार्य रूप से सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जमा करने होंगे।

बटाईदार एवं किराएदार किसानों की स्थिति किसानों को अनिवार्य रूप से अपनी आधार संख्या एवं बोई गई फसल के बारे में घोषणा पत्र प्रस्तुत करना होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत क्रॉप

फूड क्रॉप & ऑयल सीड्स

एनुअल कमर्शियल/एनुअल हॉर्टिकल्चर क्रॉप्स

परेनियल हॉर्टिकल्चर/कमर्शियल क्रॉप्स

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना रिस्क कवरेज

इस योजना के अंतर्गत बेसिक कवर किसी प्राकृतिक आपदा की स्थिति में प्रदान किया जाएगा।

बेसिक कवरेज के अलावा इस योजना के अंतर्गत ऐडऑन कवरेज का विकल्प भी चुना जा सकता है जिसमें निम्नलिखित कवरेज शामिल की गई है।

• प्रिंटेड सोइंग/प्लांटिंग/जर्मिनेशन रिस्क

• मिड सीजन एडवर्सिटी

• पोस्ट हार्वेस्ट लॉसेस

• लोकल कैलेमिटीज

• वाइल्ड एनिमल अटैक

रवी सीजन 2021 22 के लिए प्रीमियम की राशि

फसल का नामप्रति हेक्टेयर प्रीमियम की राशि
गेहूंRs 11000.90
जौRs 661.62
सरसोंRs 681.09
चनेRs 505.95
सूरजमुखी Rs 661.62

प्रति हेक्टेयर विमा राशि

फसल का नाम प्रति हेक्टेयर बीमित राशि
गेहूं Rs 67460
जौRs 44108
सरसोंRs 45405
चनेRs 33730
सूरजमुखीRs 44108

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

PM Fasal Bima Yojana को देश के किसानों को किसी प्राकृतिक आपदा के कारण होने वाले फसल के नुकसान पर इंश्योरेंस कवर प्रदान करने के लिए आरंभ किया गया है।

इस योजना के माध्यम से अब तक लाखों किसानों को लाभ पहुंचा है।

पहले 3 वर्षों में किसानों द्वारा लगभग 13000 करोड रुपए का प्रीमियम जमा किया गया है।

जिसके बदले उनको 60000 करोड रुपए तक का इंश्योरेंस क्लेम प्राप्त हुआ है।

सरकार द्वारा सभी पात्र किसानों तक इस योजना का लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जाता है, जिस के लिए सरकार द्वारा प्रचार किया जाता है।

इस योजना को 27 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया जाता है, इस योजना के अंतर्गत क्लेम रेश्यो 88.3 प्रतिशत है।

सरकार द्वारा समय-समय पर इस योजना की समीक्षा की जाती है एवं सभी हितग्राही को से संवाद किया जाता है।

इस योजना में फरवरी 2021 में कुछ संशोधन भी किए गए हैं, जिससे कि सभी किसानों को और बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा सके।

संशोधित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अनुसार वह राज्य जिनमें स्टेट सब्सिडी की पेमेंट लंबे समय तक विलंब है वह इस योजना में भाग नहीं ले पाएंगे।

बीमा कंपनी द्वारा 0.5% प्राप्त हुई प्रीमियम की राशि इंफॉर्मेशन, एजुकेशन एंड कम्युनिकेशन एक्टिविटी के लिए खर्च की जाती है।

इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए एक सेंट्रल एडवाइजरी कमेटी का भी गठन किया गया है।

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana को आधार एक्ट 2016 के अंतर्गत संचालित किया जाता है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी के पास आधार नंबर होना अनिवार्य है।

इस योजना को संचालित करने का मुख्य उद्देश्य सभी किसानों को खेती करने के लिए बिना किसी आपदा की चिंता किए प्रोत्साहित करना है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की विशेषताएं

PM Fasal Bima Yojana के माध्यम से प्राकृतिक कारणों की वजह से फसल को होने वाले नुकसान पर आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

इस योजना के माध्यम से किसानों की आय में स्थिरता आती है एवं उन्हें नवीन प्रथाओं को अपनाने में प्रोत्साहन प्राप्त होता है।

प्रमुख फसलों के अधिसूचित बीमा इकाई को कम कर दिया गया है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को actuarial/bidded प्रीमियम रेट पर संचालित किया जा रहा है।

इस योजना के अंतर्गत छोटे किसानों को अधिकतम 2% खरीफ पर, 1.5% राबी एवं तिलहन फसलों पर एवं 5% वाणिज्य या बागवानी फसलों पर प्रीमियम का भुगतान करना होगा। इसके अलावा यदि किसान को अधिक प्रीमियम देना पड़े तो उसकी 50% की राशि राज्य सरकार एवं 50% की राशि केंद्र सरकार द्वारा वाहन की जाएगी। पूर्वोत्तर राज्यों के मामले में 90% की राशि केंद्र सरकार एवं 10% की राशि राज्य सरकार द्वारा वाहन की जाएगी।

किसान द्वारा देय प्रीमियम एवं बीमा शुल्क की दर के बीच का अंतर सब्सिडी के रूप में प्रदान किया जाएगा।

ऋणी एवं गैर ऋण किसानों को सामान्य बीमा राशि का भुगतान करना होगा।

सरकार द्वारा प्रीमियम पर कैपिंग के प्रावधान को हटा दिया गया है जिसके कारण बीमा राशि में कमी आई है।

इस योजना के अंतर्गत रोकी गई बुवाई के लिए बीमित राशि के 25% तक के दावे का प्रावधान है।

यदि बीमा इकाई में फसल की क्षति 50% से अधिक बताई जाती है तो मध्यम मौसम प्रतिकूलता के लिए बीमा राशि का 25% तक ऑन अकाउंट भुगतान किया जाएगा।

शेष क्लेम की राशि फसल कटाई प्रयोगों के आंकड़ों के माध्यम से प्रदान की जाएगी।

दावों को शीघ्र निपटाने के लिए फसल के नुकसान का आकलन करने के लिए रिमोट सेंसिंग तकनीक, स्मार्टफोन और ड्रोन का उपयोग किया जाएगा।

फसल बीमा पोर्टल को भी इस योजना के बेहतर कार्यान्वयन के लिए विकसित किया गया है।

इस योजना के माध्यम से दावे की राशि सीधे किसान के खाते में जमा की जाती है।

सरकार द्वारा सभी हिट धारकों के बीच योजना के बारे में जागरूकता फैलाने का प्रयास किया जाता है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लाभ

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत देश के किसानो की फसलों में होने वाले नुकसान का बीमा दिया जायेगा।

यदि किसी किसान की फसल प्राकर्तिक आपदा के कारण नष्ट हुई है तो उन्हें इस योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा।

यदि किसी किसान की फसल किसी मानव के कारण नष्ट हुई है तो उन्हें इस योजना के तहत कोई लाभ प्राप्त नहीं होगा।

पॉलिसी के अंतर्गत किसानो को खरीफ फसल 2% के लिए रवि की फसल के लिए 1. 5% का भुगतान करते है जिसके अनुसार प्राकृतिक नुकसान जैसे -सूखा बाढ़ ओले के कारण फसल को बहुत हानि होने पर सरकार द्वारा मदद की जाती है।

फसल बीमा योजना की पात्रता

इस योजना के तहत देश के सभी किसान पात्र हो सकते है।

इस योजना के तहत आप अपनी ज़मीन पर की गयी खेती का बीमा करवा सकते है साथ ही आप किसी उधार की पर ली गयी ज़मीन पर की गयी खेती का भी बीमा करवा सकते है।

देश क उन किसानो का इस योजना के तहत पात्र माना जायेगा, जो पहले किसी बीमा योजना का लाभ नहीं ले रहे हो।

PMFBY के ज़रूरी दस्तावेज़

• किसान का आई डी कार्ड।

• आधार कार्ड, राशन कार्ड, बैंक खाता।

• किसान का एड्रेस प्रूफ ( ड्राइविंग लाइसेंस ,पासपोट, वोटर ID कार्ड)।

• अगर खेत किराये पर लेकर खेती की गयी है तो खेत के मालिक के साथ इकरार की फोटो कॉपी।

• खेत का खाता नंबर /खसरा नंबर के पेपर, आवेदक का फोटो।

• किसान द्वारा फसल की वुआई शुरू किए हुए दिन की तारीख।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मैं आवेदन करने के लिए जरूरी तिथियां

यदि आप प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो खरीफ फसल के लिए अंतिम तिथि 31 जुलाई है तथा रबी फसल के लिए अंतिम तिथि 31 दिसंबर है।

इस योजना की अंतिम तिथि CSC केंद्र, PMFBY पोर्टल, इंश्योरेंस कंपनी या फिर कृषि अधिकारी से भी पूछी जा सकती हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना फॉर्म ऑनलाइन भरने की लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करना होगा।

https://pmfby.gov.in/

फसल बीमा योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आप को ऑफिशियल वेबसाइट पर अपना एक एकाउंट बनाना होगा।

अकाउंट बनाने की लिए रजिस्ट्रेंशन पर क्लिक करना होगा ओर यहां पर पूछी गई सभी जानकारी को सही सही करना होगा।

सभी जानकारी भरने की बाद सबमिट बटन पर क्लिक कर दे और उसके बाद आप का अकाउंट ऑफिशियल वेबसाइट बन जायगा।

अकाउंट बनने की बाद अपने अकाउंट में लॉग इन करके आपको फसल बीमा योजना की लिए फॉर्म भरना होगा।

फसल बीमा योजना का फॉर्म सही सही भरने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा जिसके बाद आपको अपनी स्क्रीन पर सक्सेसफुल का मैसेज दिखाई देगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत ऑफलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

सर्वप्रथम आपको अपने नजदीकी बीमा कंपनी जाना होगा।

आपको कृषि विभाग से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।

इसके पश्चात आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करना होगा।

अब आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को आवेदन पत्र से अटैच करना होगा।

इसके पश्चात आपको यह आवेदन पत्र कृषि विभाग में जमा करना होगा।

अब आपको प्रीमियम की राशि का भुगतान करना होगा, इसके पश्चात आपको एक रेफरेंस नंबर दिया जाएगा।

आपको इस रेफरेंस नंबर को संभाल कर रखना होगा, इस नंबर के माध्यम से आप अपनी आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ प्राप्त करने की प्रक्रिया

यदि किसी प्राकृतिक आपदा जैसे कि तूफान, बारिश, भूकंप आदि के कारण आप की फसल को नुकसान पहुंचा है और आप प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लाभार्थी हैं तो आप नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करके इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

• सर्वप्रथम आपको अपने एग्रीकल्चर ऑफिसर या फिर इंश्योरेंस कंपनी के पास जाना होगा।

• आपको एग्रीकल्चरल ऑफिसर या इंश्योरेंस कंपनी को नुकसान होने के 72 घंटे के अंदर अंदर नुकसान की जानकारी प्रदान करनी होगी।

• इसके पश्चात आपको नुकसान की तिथि एवं समय की जानकारी भी प्रदान करनी होगी।

• आपको फसल के नुकसान की तिथि तथा टाइम के साथ साथ फसल की फोटो भी जमा करनी होगी।

• यह पूरी प्रक्रिया आप क्रॉप इंश्योरेंस ऐप के माध्यम से भी कर सकते हैं।

• अन्य जानकारी के लिए आप फार्मर कॉल सेंटर पर संपर्क कर सकते हैं जो कि 18001801551 है।

फसल बीमा योजना आवेदन की स्थिति कैसे देखे ?

सबसे पहले आपको योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा, ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।

आपको इस होम पेज पर Application Status का ऑप्शन दिखाई देगा आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा, ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।

इस पेज पर आपको अपना Reciept Number भरना होगा फिर कैप्चा कोड डालना होगा इसके बाद Search Status के बटन पर क्लिक करना होगा।

क्लिक करने के बाद आपके सामने आपके आवेदन की स्थिति आ जाएगी।

फसल बीमा योजना लाभार्थी सूची देखने की प्रक्रिया

वेबसाइट के माध्यम से

• सर्वप्रथम आपको प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की वेबसाइट पर जाना होगा।

• अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा, होम पेज पर आपको लाभार्थी सूची के लिंक पर क्लिक करना होगा।

• अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपने राज्य का चयन करना होगा।

• इसके पश्चात आपको अपने जिले का चयन करना होगा, अब आपको अपने ब्लॉक का चयन करना होगा।

• जैसे ही आप ब्लॉक का चयन करेंगे आपके सामने लाभार्थी सूची खुलकर आ जाएगी, आप इस सूची में अपना नाम देख सकते हैं।

बैंक के माध्यम से

सर्वप्रथम आपको अपने नजदीकी बैंक जाना होगा, अब आपको संबंधित अधिकारी को अपना एप्लीकेशन नंबर देना होगा।

इसके पश्चात आपको बैंक अधिकारी द्वारा मांगे गए दस्तावेजों को देना होगा।

बैंक अधिकारी आपको लाभार्थी सूची से संबंधित जानकारी प्रदान कर देगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लिस्ट डाउनलोड करने की प्रक्रिया

सर्वप्रथम आपको प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

अब आपके सामने होम पर खुलकर आएगा, होम पेज पर आपको डैशबोर्ड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

इसके पश्चात आपको कवरेज डैशबोर्ड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

अब आपको स्टेट वाइज रिपोर्ट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

जैसे ही आप इस विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।

इस पेज पर आपको अपने राज्य का चयन करना होगा, अब आपको अपने जिले का चयन करना होगा।

इसके पश्चात आपको अपने सब जिले का चयन करना होगा, अब आपको अपने ब्लॉक का चयन करना होगा।

इसके पश्चात आपको अपनी ग्राम पंचायत का चयन करना होगा, संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

इन्शुरन्स प्रीमियम कैलकुलेट कैसे करे ?

सबसे पहले आवेदक को योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा, ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।

इस होम पेज पर आपको Insurance Calculator का ऑप्शन दिखाई देगा, आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।

इस पेज पर आपको पूछी गयी कुछ जानकारी जैसे फसल का चयन , साल ,स्कीम , स्टेट , डिस्ट्रिक्ट , क्रॉप आदि का चयन करना होगा।

सभी जानकारी भरने के बाद आपको Calculate के बटन पर क्लिक करना होगा, इसके बाद आप प्रीमियम को कैलकुलेट कर सकते है।

शिकायत दर्ज कैसे करे ?

सबसे पहले आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा,ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा, इस होम पेज पर आपको Technical Grievance का ऑप्शन दिखाई देगा।

आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा, ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा, इस पेज पर आपको नाम, मोबाइल नंबर , ईमेल आईडी , और कमैंट्स को दर्ज करना होगा।

सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा, इस तरह आपको शिकायत दर्ज हो जायेगा।

बैंक ब्रांच डायरेक्टरी देखने की प्रक्रिया

सर्वप्रथम आपको प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा, होम पेज पर आपको बैंक ब्रांच डायरेक्टरी के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

इसके पश्चात आपकी स्क्रीन पर एक नया पेज खोलकर आएगा, इस पेज पर आप बैंक ब्रांच डायरेक्टरी देख सकते हैं।

बीमा का क्लेम करते समय इन बातों का ध्यान रखें।

यदि आपने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आवेदन किया है और आप बीमा का क्लेम करना चाहते हैं तो आपको बीमा कंपनी को छोटे पैमाने पर प्राकृतिक आपदाओं की जानकारी प्रदान करनी होगी।

यह जानकारी आपको समय से प्रदान करनी होगी, यदि आपने आपदा की जानकारी बीमा कंपनी को देने में देरी की तो आपको क्लेम का भुगतान नहीं किया जाएगा।

छोटे पैमाने पर प्राकृतिक आपदाओं में ओलावृष्टि, भू-स्खलन, अतिवृष्टि, बादल फटने, प्राकृतिक आग लगने तथा बेमौसम वर्षा या सामान्य से अधिक वर्षा होने आदि शामिल है।

हाल ही में 9,30,000 किसानों के बीमा क्लेम रद्द कर दिए गए हैं, क्योंकि उन्होंने समय से बीमा कंपनी को प्राकृतिक आपदा की जानकारी नहीं प्रदान की थी।

यदि किसी बड़े पैमाने पर प्राकृतिक आपदा आती है तो इस स्थिति में आपको बीमा कंपनी को प्राकृतिक आपदा की जानकारी देने की जरूरत नहीं है।

यदि आप क्लेम प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आप बीमा कंपनी को सही समय पर सूचित कर दें नहीं तो प्रीमियम का भुगतान करने के बाद भी आपको क्लेम नहीं प्राप्त होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत क्लेम करने की प्रक्रिया

सर्वप्रथम किसान को फसल के पहुंचे नुकसान की जानकारी इंश्योरेंस कंपनी, बैंक या फिर राज्य सरकार अधिकारी को देनी होगी।

यह जानकारी किसान को टोल फ्री नंबर पर संपर्क करके नुकसान होने के 72 घंटे के भीतर देनी होगी।

यदि आपने इंश्योरेंस कंपनी के अलावा किसी और को नुकसान की जानकारी दी है तो आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि वह जल्द से जल्द यह जानकारी इंश्योरेंस कंपनी तक पहुंचाएं।

जैसे ही इंश्योरेंस कंपनी तक जानकारी पहुंचेगी इंश्योरेंस कंपनी 72 घंटे के भीतर नुकसान निर्धारणकरता नियुक्त करेगी।

अगले 10 दिन के भीतर आप ही फसल को पहुंचे नुकसान का आकलन नुकसान निर्धारितकरता करेगा।

यह सारी प्रक्रिया सफलतापूर्वक हो जाने पर 15 दिन के अंदर अंदर बीमा की राशि आपके खाते में पहुंचा दी जाएगी।

प्रधानमंत्री हेल्पलाइन नंबर

इस योजना के अंतर्गत देश के किसानो के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है अगर किसी किसान को इस योजना के जुडी कोई परेशानी है, तो वह इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके अपनी परेशानी का निवारण प्राप्त कर सकते है और इस योजना से जुडी अधिक जानकारी प्राप्त कर सकता है ।

नंबर – 01123382012

हेल्पलाइन नंबर – 01123381092

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आने वाली बीमा कंपनियों के टोल फ्री नंबर

इन्शुरेंस कंपनी का नामटोल फ्री नंबर
एग्रिकल्चर इन्शुरेंस कंपनी1800 116 515
बजाज आलियंज इन्शुरेंस कंपनी1800 209 5959
भारती एक्सा जनरल इन्शुरेंस कंपनी1800 103 7712
चोलामंडलम MS जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 200 5544
फ्युचर जनराली इंडिया इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 266 4141
HDFC एर्गों जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 266 0700
ICICI लोम्बार्ड जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 266 9725
इफको टोकियो जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 103 5490
नेशनल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 200 7710
न्यू इंडिया एशुरेंस कंपनी1800 209 1415
रिलायंस जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 102 4088 / 1800 300 24088
ओरिएंटल इन्शुरेंस1800 118 485
रॉयल सुंदरम जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 568 9999
SBI जनरल इन्शुरेंस1800 123 2310
श्रीराम जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 3000 0000 / 1800 103 3009
TaTa AIG जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड1800 209 3536
यूनाइटेड इंडिया इन्शुरेंस कंपनी1800 4253 3333
यूनिवर्सल जनरल इन्शुरेंस कंपनी1800 200 5142

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here